Tuesday, November 26, 2019

दांत दर्द का इलाज-दांत दर्द के घरेलू उपाय



dant dard ka ilaj in hindi

हेलो दोस्तो, मैं अमित आपका स्वागत करता हु हमारे ब्लॉग में। दोस्तो हम हर दिन आपके लिए कुछ अलग लेकर आते रहते है. और आज हम आपके लिए "dant dard ka ilaj in hindi" यह टॉपिक लेकर आए है। जो आपके लिए बोहत ही ज्यादा फायदेमंद साबित होनेवाला है। दोस्तों आज के हमारा dant dard ka ilaj in hindi यह टॉपिक आपके दांतों का दर्द मिटा देगा। दोस्तो वैसे कई लोगो के दांतों में दर्द होते रहता है, तो किसी के दांतों में मसूड़ो में सूजन आ जाती है। और इसीलिए वो लोग इंटरनेट पर दांत दर्द के इलाज ढूंढ़ते है।या फिर दांत दर्द के टैबलेट को ढूंढ़ते है। या फिर dant ke keede ka ilaj, dant dard ki medicine name, dant dard ka mantra, danto me dard, दांत दर्द का मंत्र, दाढ़ दर्द का घरेलू इलाज, दांत दर्द की मेडिसिन नाम, दांत दर्द की दवा एंटीबायोटिक, दांत दर्द की दवा का नाम, दांत दर्द की अंग्रेजी दवा, दांत दर्द में तुरंत आराम, दांत दर्द के घरेलू उपाय इस तरह के टॉपिक सर्च करते है। मगर उनको कई बार मनचाहा रिजल्ट नही मिल पाता। बस इसलिए हम आपके लिये Dant Dard ka Ilaj In Hindi यह टॉपिक लेकर आए है। तो चलिए शुरू करते हैं हमारा आज का विषय "Dant Dard ka Ilaj Aur Tablet In Hindi"।


Dant Dard ka Ilaj हिंदी में जानकारी

●दांतों में अगर खड्डा गिर गया हैं तो उसमें बोहत सारे कीटाणु जमा हो जाते है क्योंकि आपके दांतों के गड्ढे में कुछ पदार्थों के कण उसमें रह जाते हैं। जिसके कारण दांत दर्द कारने लगता हैं। और मसूड़ो में सूजन आने लगती हैं। तो ऐसे में आपको क्या करना होगा इस बारे में हम आपको बताते है।

●यदि आपके दांतों में गड्डा है तो उस गड्ढे में से गंदगी निकाल दीजिए और गरम पानी से अपने मुंह में गुलगुले कर लें। इससे आपको थोड़ी बोहत राहत मिल जाएगी।

●दूसरा तरीका यह है कि आप अपने दांतों के बीच में एक लौंग को दबाकर रखें इसे अब तो थोड़ी बहुत राहत मिल जाएगी।


Dant Dard ki Tablet

वैसे देखा जाए तो कई लोग अपने दांतों के दर्द से परेशान होकर कई तरह की टैबलेट लेते हैं। लेकिन उनको मन चाहा रिजल्ट नहीं मिल पाता। और उनके दांतो का दर्द और ज्यादा बढने लगता है। तो ऐसे में हमें कौन सी टेबलेट लेनी चाहिए यह मैं आपको बताता हूं।

दोस्तों अगर घरेलू नुस्खे आजमाकर आपके दांतों का दर्द कम नहीं हो रहा है, तो आप "एस्पिरिन" की टैबलेट ले सकते हैं। इससे आपको राहत मिल जाएगी।

अगर आपके दांतो में सूजन आयी हो, तो आप पेनिसिलिन और सल्फा या फिर टेट्रासाइक्लिन के औषधि का उपयोग कर सकते हो। इससे आपको पक्का राहत मिलेगी।

इसके बावजूद भी अगर आपके दांतों का दर्द कम नही हो रहा है तो आप उस दांत को डॉक्टर के पास जाकर निकाल दीजिए। क्योंकी अगर आपके दांतों में सूजन हो तो यह सूजन और जगह पर भी असर करती है। जिससे आपको बोहत तकलीफ हो सकती है।

तो दोस्तो "Dant Dard ka Ilaj In Hindi" यह था हमारा आज का विषय। दोस्तो हमारे ब्लॉग का सिर्फ एक  उद्देश्य है कि हम दूसरों की सदैव मदत कर सके और उनको मोटिवेट करे। और उनके हेल्थ के लिए नए नए आसान से टिप्स ला सकें जिनसे लोगो का स्वास्थ्य हमेशा अच्छा बना रहे। दोस्तों अगर आपको हमारा "Dant Dard ka Ilaj In Hindi" यह पसंद आया है या आपको हमारे टिप्स को फ़ॉलो करके अच्छा रिजल्ट आया हो तो कृपया करके कमेंट करके जरूर बताइएगा।  

और अभी तक आपने हमारे mygapshup.com इस ब्लॉग को सब्सक्राइब नही किया है तो, अभी जल्दी से सब्सक्राइब कर लीजिये। ताकि हमारे आनेवाले हर नए विषय की और नए नए टिप्स की खबर आपको सबसे पहले मिलती रहे। सब्सक्राइब करने के लिए आपके मोबाइल पर जो घंटी दिख रही है उसको दबाकर आप हमें सब्सक्राइब कर लें। या फिर आप अपना ईमेल एड्रेस टाइप कर ले और सब्सक्राइब बटन पर क्लिक करके आप हमें सब्सक्राइब कर लीजिए। तो दोस्तो "Dant Dard ka Ilaj In Hindi"  इसी लेख के साथ मैं आपसे विदा लेता हूं फिर मिलेंगे एक नए आर्टिकल के साथ तब तक के लिए हंसते रहिये मुस्कुराते रहिये!

जय हिंद।

आप हमारे अन्य आर्टिकल भी पढ़ सकते हैं

चेहरे से पिंपल्स हटाने का उपाय हिंदी में - Home Remedies For Pimples


Home Remedies For Pimples


हेलो दोस्तों आपका हमारे ब्लॉग mygapshup.com में फिर से एक बार स्वागत है. दोस्तों आज हम आपके लिए "चेहरे से पिंपल्स हटाने का आसान उपाय हिंदी में" लेकर आए है. दोस्तों आज हम आपके लिए चेहरे से पिंपल्स हटाने के लिए सिर्फ और सिर्फ एक आसान उपाय लेकर आए है जिससे सिर्फ एक रात में आपके चेहरे से पिंपल हट जाएगा गारंटी के साथ जी हां दोस्तों! वैसे देखा जाए तो कई लोग इंटरनेट पर पिम्पल्स हटाने के उपाय, पिंपल्स के लिए घरेलू उपाय, पिंपल्स के कारण, पिंपल्स घरगुती उपाय, पिंपल हटाने का उपाय, पिंपल के दाग हटाने के उपाय, पिम्पल्स को कैसे रोके, पुराने से पुराने पिंपल हटाने के उपाय, पिंपल्स के लिए घरेलू उपाय, पिंपल्स के कारण, पिम्पल्स क्रीम, pimples समाधान, पिम्पल्स के दाग, पिंपल हटाने के तरीके, कील मुंहासे हटाने के उपाय, मुहासे हटाने के उपाय ऐसे सब सर्च करते है.  

दोस्तो और तो और आप लोगों ने कई ऐसे आर्टिकल्स पढ़े होंगे या कई ऐसे वीडियोस भी देखे होंगे जिनमें आपको बताया जाता है कि रातो रात पिंपल्स हटाए या फिर 1 दिन में पिंपल्स हटाए, और आप उन उपाय को ट्राय कर लेते है लेकिन उसके बावजूद आपको मनचाहा रिजल्ट नही मिलता और वो लोग निराश हो जाते है और अपने आप से नफ़रत करने लगते है। दोस्तों हम यहां पर जो आपको उपाय बताने वाले हैं वो theoretically नहीं बताऊंगा. मैं कोई भी कोई बात theoretically नहीं करता, सिर्फ प्रैक्टिकल करता हूं. और मैं जो भी बात करता हु या जिस विषय पर भी बात करता हु उसे पहले खुद पर आजमाकर देखता हूं उसके बाद ही मैं उसे आपके साथ शेयर करता हु.  

आज जो मैं उपाय बताने जा रहा हु उस उपाय को भी मैंने खुद पर आजमा कर देखा है. मुझे भी काफी सारे पिंपल्स आते थे और मैंने भी काफी सारे उपाय किए थे, उसके बावजूद मुझे मनचाहा रिजल्ट नहीं मिला और मेरे पिंपल्स भी बढ़ने लगे थे. उसके बाद मैंने एक उपाय किया और मुझे काफी ज्यादा फर्क महसूस हुआ है. इसीलिए इस उपाय को मैं आपके साथ शेयर कर रहा हूं. तो चलिए शुरू करते हैं आज का हमारा टॉपिक चेहरे से पिंपल्स हटाने का आसान उपाय हिंदी में!


क्या चेहरे से पिंपल्स पूरी तरह हटाये जा सकते है?

दोस्तों आज अगर देखा जाए तो दुनिया की हर एक लड़की और लड़का खूबसूरत दिखना चाहता है.दुनिया की हर एक लड़की और लड़का चाहता है कि उसका चेहरा बहुत खूबसूरत हो और उसके चेहरे पर किसी भी तरह का पिंपल ना हो किसी भी तरह के दाग ना हो.उसका चेहरा नीट एंड क्लीन हो, इसके लिए वह लड़की या लड़का हर एक वो चीज ट्राय करती है जिससे वो खूबसूरत दिखने लगे लेकिन कई बार उनको मनचाहा रिजल्ट नहीं मिल पाता है और उस वजह से वो उदास होती है निराश होने लगती है. इसी उदास और निराश अपुन को दूर करने के लिए आज हम आपके लिए चेहरे से पिंपल्स हटाने का आसान उपाय हिंदी में लेकर आए है.


पिम्पल्स आने के क्या कारण होते है

दोस्तों सबसे पहले हम ये जान लेते हैं कि हमारे चेहरे पर पिंपल्स क्यों आते हैं. वैसे देखा जाए तो चेहरे पर पिंपल्स आने के कई कारण होते हैं जिनमें से मुख्य कारण यह है कि, आपकी त्वचा बेजान हो चुकी होती है और आपकी त्वचा को जरूरी पोषण नहीं मिल पाता है. इसी वजह से आपके चेहरे पर पिंपल्स आने शुरू हो जाते हैं.और अगर देखा जाए तो इसके कुछ और कारण भी हो हैं जैसे कि,  ऑयली त्वचा, बाहरी पदार्थों का सेवन करना, पेट की बीमारियां, ब्यूटी क्रीम के साइड इफेक्ट, स्किन को एलर्जी होना, हारमोंस, ऐसे बोहत से कारण होते हैं जिससे आपकी चेहरे पर पिंपल्स आ जाते हैं.


पिम्पल्स हटाने का सबसे आसान तरीका

दोस्तों अबतक मैंने बोहत बाते की पिम्पल्स क्यों आते है क्या कारणों से आते हैं लेकिन अब मैं आपको उपाय बता ही देता हूं. दोस्तो इसे जरा ध्यान से पढ़ना क्योंकी हो सकता है कि कुछ लोगो को इस बारे में पता ना हो क्योंकी ऐसा उपाय आज तक किसी ने नही बताया है जो मैं बताने जा रहा हु. तो दोस्तों उस उपाय का नाम है "गंदगुळी". जी हां दोस्तों "गंदगुळी" यह एक मराठी शब्द है जिसका हिंदी में क्या कहा जाता है मैं नही जानता लेकिन यह चीज़ आपको किराना दुकान में मिल सकती है. हालांकि अब यह चीज ज्यादातर लोग यूज नहीं करते हैं लेकिन इस चीज का बहुत बड़ा फायदा होता है. अगर आपको यह चीज कहीं मिल नहीं रही है तो आपको यह चीज मंदिरों में गारंटीड मिल सकती है या जो शाकाहारी लोग है और जो गले मे माला पहनते है उनके पास आपको यह चीज़ मिल जाएगी. क्योंकि इस चीज का इस्तेमाल भगवान की पूजा या माथे पर तिलक लगाने के लिए किया जाता है अब मैं आपको बताता हूं इसे कैसे यूज करना है!

"गंदगुळी" का इस्तेमाल पिम्पल्स हटाने के लिए कैसे करे

दोस्तों यहां पर आपको ज्यादा कुछ करना नहीं है. ये जो चीज है वह आपको आसानी से मिल सकती है अगर आप चाहो तो. या फिर आप उनसे ले सकते हो जो इसका इस्तेमाल करते हैं. यह चीज आपको अगर दुकानों मिलने जाए तो कम से कम 15 से 20 रुपये में मिल जाएगी. अब मैं आपको बताता हूं कि इसे कैसे इस्तेमाल करना है. तो सबसे पहले आप अपना चेहरा पानी से धो ले, उसके बाद अपने हथेली पर पानी की 4 से 5 बुंदे ले ले और फिर उसके बाद "गंदगुळी" को अपने हथेली पर रगड़ ले और उसके बाद आपके हाथ में जो पेस्ट हो जाएगा उस पेस्ट को अपने पिंपल्स पर लगा लीजिए. याद रखिए आपको उस पेस्ट को पूरे चेहरे पर नहीं लगाना है, आपको सिर्फ वही लगाना है जहां पर आपको पिंपल्स आए हैं. अब आपको इसे रात को लगा कर सोना है उसके बाद सुबह जब आप उठेंगे तो आपको देखने को मिलेगा कि आप के पिंपल्स काफी कम हो चुके होंगे. यदि आपको एक रात में फर्क ना दिखे तो कृपया इसे कम से कम 3/4 दिन तक ट्राय कीजिये. दोस्तों मैंने खुद किया है इसलिए मैं आपको दावे के साथ बोल रहा हु की आपको फायदा जरूर होगा!

(नोट- यदि किसी को गंदगुळी इन सब चीजों से एलर्जी है तो कृपया करके वह लोग इस चीज का प्रयोग ना करें)

तो दोस्तो आपको हमारा आज का "चेहरे से पिंपल्स हटाने का आसान उपाय हिंदी में" यह विषय कैसा लगा यह हमें कमेंट करके जरूर बताइयेगा। और यदि आपको इस आर्टिकल से रिलेटेड कोई भी सवाल हो तो आप हमें पूछ सकते है हम 24 घंटे के भीतर आपको जवाब दे देंगे. और अभी तक आपने हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब नही किया है तो अभी सब्सक्राइब कर लीजिये ताकि हमारे आनेवाले हर एक नए विषय की खबर हर एक नए आर्टिकल की खबर आपको सबसे पहले मिलती रहे। तो "चेहरे से पिंपल्स हटाने का आसान उपाय हिंदी में" इसी के साथ मैं आपसे विदा लेता हूं फिर मिलेंगे एक नए आर्टिकल के साथ तब तक के लिए हंसते रहिये मुस्कुराते रहिये!
जय हिंद।




Saturday, November 9, 2019

आँखों के नीचे गड्ढे का कारण और इलाज

Ankhon Ke Niche Gadde Ka Ilaj

नमस्कार दोस्तो आज हम इस आर्टिकल में आंखों के नीचे गड्ढे का कारण और आंखों के नीचे गड्ढे का इलाज इन दोनों विषय पर विस्तार से बात करेंगे और इस प्रॉब्लम का सॉल्यूशन भी बताएंगे। हर लड़की और लड़के का सपना होता है कि वह हमेशा सुंदर दिखे खूबसूरत दिखे और कभी भी उनके आँखों के नीचे गड्ढे यानी के काले घेरे ना हो और ना ही चेहरे पर किसी भी प्रकार की झुरियां हो। लेकिन आजकल की तनाव भरी इस दुनिया मे यह एक सपना ही बनकर रह गया है। क्यूंकि कभी ना कभी हम सभी को चेहरे से जुड़े परेशानी का सामना करना ही पड़ता है।

आँखों के नीचे डार्क सर्कल होना एक आम समस्या है, जो औरत और मर्द दोनों को भी होती है। लेकिन आंखों के नीचे गड्ढे ज्यादातर औरतों में देखा जाता है। यह समस्या इतनी साधारण सी होती है कि कई लोग ज्यादातर इस समस्या की ओर ध्यान नहीं देते जिसके कारण समय के चलते उनके आंखों के नीचे काले घेरे और अधिकमात्रा में बढ़ते जाते है और उस कारण से वे लोग बदसूरत दिखने लगते है। कई बार इन काले घेरों की वजह से लोग आपको इग्नोर करते है क्योंकि चेहरे पर आंखों के नीचे गड्ढे का होना बोहत खराब दिखता है।  पहले यह समस्या 40-45 की उम्र के बाद हुआ करती थी, लेकिन अब यह समस्या किसी भी उम्र के लोगों में दिखाई दे रही है।

देखा जाए तो आंखे हमारे शरीर का सबसे सुंदर पार्ट होता है, लेकिन अगर वही आंखे बदसूरत दिखने लगे तो आपकी सुंदरता का कोई मौल नही रहता। जब भी कोई आपको देखता है तो वह सबसे पहले आपकी आंखों को देखता है और जब आपकी आंखें ही खराब हो तो आपका इम्प्रेशन बोहत बुरा पड़ता है। इसीलिए सबसे जरूरी है कि हम अपनी आंखों का अच्छे से खयाल रखें। आजकल के युग मे आंखों के नीचे गड्ढे कालापन तो आता ही रहता है, लेकिन आंखों के नीचे कालापन क्यों आता है सबसे पहले हम इसके बारे में थोड़ा विस्तार से जान लेते है।


आंखों के नीचे गड्ढे का कारण

उम्र:- वैसे आजकल देखा जाए तो साधारण 16 से 18 साल के बाद ही आंखों के नीचे कालापन आने लगता है। जो कि पहले के जमाने मे 35 से 40 साल के बाद ही आने लगता था। दोस्तो इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़े इस आर्टिकल में आपके चेहरे से जुड़े सारी समस्याओं का निवारण दिया गया है। 

तनाव/चिंता:- दोस्तो आंखों के नीचे गड्ढे या डार्क सर्कल आने का प्रमुख कारण है तनाव और चिंता। जी हा दोस्तों शायद ही आपको पता होगा। लेकिन ज्यादातर 60% लोगो के आंखों के नीचे गड्ढे आने का यही एकमात्र कारण होता है। ज्यादातर लोग छोटी छोटी बातों से परेशान होकर चिंता करते रहते है। लेकिन शायद उन्हें पता भी नही होता कि उनके इस बर्ताव का असर उनके चेहरे पर और आंखों पर होता है। 

कंप्यूटर/मोबाइल/tv का अधिक उपयोग:- दोस्तो जैसे कि आप सभी जानते है कि आज की दुनिया यह एक डिजिटल दुनिया हो चुकी है। जहाँपर सारे कामकाज मोबाइल और कम्प्यूटर की माध्यम से किए जाते है। ऐसे में जो लोग दिनभर मोबाइल और कंप्यूटर पर काम करते है उनके आंखों पर बोहत गहरा प्रभाव पड़ता है। किसी को चश्मा लगता है तो किसी का नम्बर और भी बढ़ जाता है। और अधिकमात्रा में उपयोग करने से उनके आंखों के नीचे गड्ढे और कालापन आने लगता है। जो कि उनके चेहरे की खूबसूरती को खराब करता है। 

अधूरी नींद:- दोस्तो जैसा कि हम सभी जानते है कि इस व्यस्त भरी दुनिया मे ज्यादा समय किसी के पास नही होता। सभी लोग अपने कामकाज में इतने व्यस्त हो जाते है कि उन्हें आराम करने का भी समय नही मिलता। इंसान को जहाँ 8 घंटे की नींद की आवश्यकता होती है वहाँपर इंसान केवल 4 से 5 घंटे की नींद ले पाता है जो कि उनके स्वास्थ्य के लिए और उनकी आंखों के लिए बोहत ही हानिकारक होता हैं। 

भोजन:- आजकल इंसान सही समय पर भोजन नही करता मतलब के वो जब चाहे तब थोड़ा सा खा लेता है। उत्तम स्वास्थ्य और एक्टिव रहने के लिए सही भोजन करना आवश्यक होता है मगर इंसान इस बात को धीरे धीरे भूल रहा है। और अधूरे भोजन या फिर ऐसा वैसा कुछ भी खाने से उनके स्वास्थ्य और चेहरे पर बोहत गहरा प्रभाव पड़ता है। 

स्मोक ज्यादा करना:- जो लोग ज्यादा स्मोक करते है उनके चेहरे बोहत जल्दी खराब होते है। यू कहे तो वे लोग 20 साल के उम्र में ही 40 साल के लगने लगते है। स्मोक करने से इंसान के चेहरे पर बोहत प्रभाव होता है, उनके चेहरे पर झुर्रियां पड़ने लगती है और आंखों के नीचे गड्ढे और कालापन आने लगता है जिससे उनका चेहरा काफी अधिकमात्रा में खराब दिखने लगता है।

गर्भावस्था:- गर्भावस्था में महिला के चेहरे में अधिकमात्रा में बदलाव होता है। लेकिन यह आम बात है साथ ही गर्भावस्था में महिलाओं के आंखों के नीचे गड्ढे और कालापन अधिकमात्रा में होता है। क्योंकि ज्यादातर महिलाएं गर्भावस्था में ज्यादा थकान महसूस करते है। 

इसके अलावा आंखों के नीचे गड्ढे आने का प्रमुख कारण है प्रदुषण। किसी मेंटल परेशानी के कारणों से भी डार्क सर्कल यानी कि कालापन आ जाता है। वैसे तो आजकल मार्केट में आंखों के नीचे गड्ढे के लिए बहुत सी क्रीम मिलती है, जो डार्क सर्कल यानी के आंखों के निचे का कालापन कम करने का दावा करती है, लेकिन इन क्रीम से ज्यादातर असर नहीं होता पाता और लोग निराश हो जाते है। और जो दवा थोड़ी असरदार होती है वे बहुत महंगी होती है। और कभी कभी क्रीम में ज्यादा मात्रा में केमिकल पाए जाते है जो हमारी आँखों के लिए और चेहरे के लिए हानिकारक होता है।

कई बार इन क्रीम का नुकसान हमारे शरीर को भी भुगतना पड़ता है। और इनके अधिक मात्रा में प्रयोग करने से हमारे आँखों में जलन होने लगती है, सिर में दर्द होता है, आँख से आंसू आना जैसी शिकायत होती है| तो क्यों ना आंखों के नीचे कालेपन काले घेरों के लिए अपने घरेलु उपचार आजमाए। ये उपचार जो हम आपको बताने जा रहे है वे बोहत ही आसान है और उनका किसी भी तरह का कोई साइड इफेक्ट्स नही होता। तो अब तक हमने जाना कि आंखों के नीचे गड्ढे आने का क्या कारण होता है, अगले आर्टिकल में हम जान लेते है कि आंखों के नीचे गड्ढे का इलाज क्या है। 

तो दोस्तों यह तो हमारा आज का आर्टिकल जो हमने आपको बताया। यदि आपको इस आर्टिकल से जुड़े कोई भी सवाल हो तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम आपको 24 घंटे के भीतर जवाब देंगे और यदि आपने हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब नहीं किया है तो अभी कर ले ताकि आपको हमारे आने वाले नए-नए आर्टिकल की खबर सबसे पहले मिल सके जो आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

(आप हमारे प्रेरणादायक सुविचार यहाँ क्लिक करके पढ़ सकते हैं)

Friday, November 8, 2019

अगर आप भी रोजाना 2 से 3 घंटे मोबाइल यूज करते है तो यह जरूर पढ़ें

Mobile Side Effects

दोस्तो आज का हमारा टॉपिक है mobile side effect (मोबाइल के दुष्परिणाम)। दोस्तों अगर आप भी दिन में 2 से 3 घंटे तक मोबाइल का इस्तेमाल करते है तो सावधान हो जाइए। दिन में 2 से 3 घंटे तक मोबाइल का इस्तेमाल करने से आपके शरीर को अधिकमात्रा में नुकसान होता है। आज हम आपको बताएंगे कि रोजाना 2 से 3 घंटे तक मोबाइल का इस्तेमाल करने से आपको कितना नुकसान हो सकता हैं। और आपको ज्यादा मोबाइल यूज़ करने से क्या क्या mobile side effect (मोबाइल के दुष्परिणाम) हो सकते हैं। और हम आज आपको इस आर्टिकल में यह भी बताएंगे कि आपके बॉडी में क्या क्या साइड इफेक्ट्स हुए है जो आपको नज़र नही आये। तो चलिए सबसे पहले हम यह जान लेते है कि Mobile Addition क्या होता है। और उससे हमे क्या हानि होती हैं। और हमे इस हानि से बचने के लिए क्या क्या करना होगा। तो चलिए आज का हमारा विषय शुरू करते है। mobile side effect (मोबाइल के दुष्परिणाम).

Mobile Addiction

दोस्तो, आजकल दुनिया मे सभी लोग मोबाइल टूल का इस्तेमाल करते है। चाहे वो छोटा हो या बड़ा सारे लोग मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं। वैसे देखा जाये तो मोबाईल टूल का उपयोग बोहत अधिकमात्रा में किया जाता है। कई लोग मोबाइल टूल का उपयोग गलत कामो के लिए करते है तो कई लोग नार्मल timepass के लिए करते है। लेकिन आजकल मोबाइल टूल एक एडिक्शन के रूप में हो गया है। यदि आप जानना चाहते है कि Mobile Addiction क्या है तो यह आर्टिकल पूरा पढिये ताकि आपको समझ मे आ जाए कि मोबाइल का उपयोग कैसे करे और कितनी देर तक करे। 

What Is Mobile Addition

दोस्तों, यहा पर मैं आपको कुछ ऐसी बाते कहूंगा जिससे आपको आसानी से पता चल जाएगा कि Mobile Addiction किसे कहते है। मान लीजिए कि एक व्यक्ति जो मोबाइल का उपयोग करता है। वो व्यक्ति अगर खुद को थोड़ी देर तक ही सही अपने मोबाइल को दूर नही रख सकता तो इसका मतलब है वो Mobile Addiction का शिकार हो गया है। कोई कोई व्यक्ति ऐसे होते है जो भोजन करते वक्त मोबाइल को अपने हाथ मे रखते है। और social media पर बिना मतलब के कुछ न कुछ करते रहते है। तो इसे भी Mobile Addition कहा जाता है। 

अक्सर आपमें से कई लोग ऐसे होंगे जिनको मोबाइल के बिना चैन नही आता हो। कई लोग हर 5 मिनट बाद अपना मोबाइल फोन देखने लगते है कि कही कोई msg आया हो या फिर सोशल मीडिया पर मुझे कितने लाइक्स मिले या comments। उन लोगो को जब तक मोबाइल देख ना ले तब तक चैन ही नही पड़ता। और कई लोग मोबाइल के इतने आधीन हो जाते है कि अगर मोबाइल चार्जिंग पर भी लगाया हो तो वो चार्जिंग के पास बैठकर मोबाइल का यूज़ करते है। इन सभी परिस्थितियों को Mobile Addition कहा जाता हैं। 

कई बार ऐसे भी लोग होते है जो अपना अधिकतर समय मोबाइल पर बिताते है। लेकिन वो लोग अपना काम करने के इरादे से अपना ज्यादातर समय मोबाइल पर बिताते है उन्हें Mobile Addition नही कहा जा सकता। क्यों नही कहा जा सकता, क्योंकि वे मोबाइल टूल का उपयोग सिर्फ काम करने के लिए ही इस्तेमाल करते है इसीलिए उन्हें Mobile Addition नही कहा जाता। हा ऐसे लोग कई बार सोशल मीडिया पर ऐक्टिव होते है लेकिन बोहत कम समय के लिए एक्टिव होते है। तो अब हम आपको बताते है कि मोबाइल के ज्यादा इस्तेमाल करने से आपको क्या हानि पोहचती है। 

Mobile side Effect In Hindi

●यदि आप ज्यादा मात्रा में मोबाइल का इस्तेमाल करते है तो आपके दोनों कंधे ब्लॉक होने की संभावना होती है। 

●यदि आप जानना चाहते है कि आपकी बॉडी में क्या side effect हुआ है तो खड़े होकर अपने दोनों हाथों को पीछे की तरफ लेकर एक मिनट तक लॉक करके देख लीजिए। आपको पता चल जाएगा की ज्यादा मात्रा में मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने से आपकी बॉडी धीरे धीरे लॉक होती जा रही है। 

●ज्यादा मात्रा में मोबाइल का इस्तेमाल करने से आपके Brain पर काफी बुरा असर पड़ता हैं। सरल भाषा मे कहे तो अधिकमात्रा में मोबाइल फोन इस्तेमाल करने से आपकी स्मरण शक्ति पर बुरा प्रभाव पड़ता हैं। 

●कई बार कुछ मोबाइल फोन के रेडिएशन अधिकमात्रा में होते है तो उस समय उस रेडिएशन की वजह से आपके बॉडी और दिमाग पर बोहत गहरा परिणाम होता है।

●यदी आप मोबाइल को चार्जिंग पर लगाकर इस्तेमाल करते है तो उस समय आपको ज्यादा खतरा हो सकता है। इसीलिए जब भी आपका मोबाइल चार्जिंग पर हो तब मोबाइल फोन का इस्तेमाल ना करे। 

●मोबाइल की बैटरी कम हो तब मोबाइल पर बात ना करे। क्योंकि जब भी मोबाइल की बैटरी कम होती है तब उस समय काफी मात्रा में रेडिएशन निकलने की संभावना रहती हैं। 

●सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कई लोगो को रात को सोने के समय मोबाइल को सिरहाने रखने की आदत होती है। लेकिन ऐसी आदत से आपके जान को नुकसान होने की ज्यादा संभावना होती है। क्योंकि रात के समय भी रेडिएशन अधिकमात्रा में निकलने की संभावना होती है। 

●कई लोग अपना मोबाइल फोन शर्ट के जेब मे रखते है जो बिलकुल धड़कन के करीब होता है। तो यहां पर भी आपको मोबाइल से हानि होने की अधिकमात्रा में संभावना होती है। इसीलिए अपना मोबाइल फोन पैंट की जेब में रखे या फिर मोबाइल का अलग कवर आता है उसमें रखकर आप मोबाइल से होनेवाली हानियों से बच सकते हैं।

●आजकल टेक्नोलॉजी की वजह से सबकुछ आसान हो गया है। लेकिन इसी टेक्नोलॉजी की वजह से लोग आलसी होते जा रहे है। जहाँ पर कभी कभी हम होटल में खाना खाने के लिए बाहर जाया करते थे वही आज कई लोग मोबाइल पर ही खाने का आर्डर करते है। तो इसी वजह से लोग अक्सर आलसी बनते जा रहे है। 

दोस्तो, "mobile side effect" (मोबाइल के दुष्परिणाम) यह था आज का हमारा विषय। अंत मे मैं यही कहना चाहूंगा कि जितना हो सकता हैं उतना मोबाइल का इस्तेमाल कम करें। ताकि आप मोबाइल से होनेवाली हानियों से खुद को बचा सके। तो आज का यही आर्टिकल था। अगर आपको "mobile side effect" (मोबाइल के दुष्परिणाम) यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो कृपया "mobile side effect" (मोबाइल के दुष्परिणाम) इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे। ताकी बाकी लोगो को भी इसका फायदा हो सके और वे भी मोबाइल से होनेवाली हानियों से बच सके। 

दोस्तो, (mobile side effect) इसी आर्टिकल के साथ हम आपसे विदा लेते है फिर मिलेंगे एक नए विषय के साथ। तब तक के लिए हंसते रहिये हंसाते रहिये और हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करे। ताकि हमारे आनेवाले हर एक विषय की खबर आपको सबसे पहले मिलती रहे। सब्सक्राइब करने के लिए अपने ईमेल एड्रेस को टाइप करें और सब्सक्राइब बटन पर क्लिक करे। या फिर आप बेल आइकॉन को दबाकर हमारे लेटेस्ट खबरे प्राप्त कर सकते हैं। 

जय हिंद।