Tuesday, November 5, 2019

Hamesha Motivate Kaise Rahe

हमेशा मोटिवेट कैसे रहे

Motivation

हेलो दोस्तो मैं आज आपको कुछ ऐसी बातें बताने वाला हूं जिसे सुनकर आपकी लाइफ में कुछ ना कुछ बदलाव जरूर आएंगे. आज का जो यह मेरा आर्टिकल है यह उन लोगों के लिए है जो कुछ करने से पहले डर जाते हैं या फिर उनके मन में हजारों ऐसे सवाल पैदा होते हैं जिनकी वजह से वह अपनी लाइफ में जो करना चाहते हैं वह कर नहीं पाते. उसके लिए वह लोग अलग अलग बहाने बनाते हैं लेकिन कहीं ना कहीं जाने अनजाने में वह अपने आप से झूठ बोलते हैं. जिंदगी में कभी कुछ करना है ना तो सच बोल दो कभी भी घुमा फिरा कर बात मत करो तो चलिए मैं भी घुमा फिरा के बात नही करूँगा सीधे पॉइंट पर आते है और आज का हमारा जो टॉपिक है वो शुरू करते है.

Motivation अर्थात प्रेरणा


मोटिवेशन क्या है,दोस्तों वैसे देखा जाए तो हर एक इंसान को मोटिवेशन की जरूरत होती है. उसको हर पल एक मोटिवेशन चाहिए होता है,लेकिन इस दुनिया में एक ऐसा हिस्सा है जिनको मोटिवेशन की कोई भी जरूरत नहीं होती. जी हां दोस्तों बच्चों को मोटिवेशन की कोई भी जरूरत नहीं होती है क्योंकि वह कोई भी काम करने के लिए हर वक्त हमेशा तैयार रहते हैं चाहे वह कितना भी मुश्किल काम क्यों ना हो वह बच्चे उस काम को तब तक करते हैं जब तक वह उस काम में सफल ना हो जाए.

और वैसे देखा जाए तो आजकल इंटरनेट पर हर मिनट हर सेकंड में बहुत सारे ऐसे टॉपिक सर्च किए जाते हैं जैसे कि मोटिवेशन कोट्स इन हिंदी मोटिवेशन कोट्स इंस्पिरेशनल कोट्स न जाने ऐसे बहुत सारे टॉपिक सर्च किए जाते हैं ताकि लोगों को उन टॉपिक से इंस्पिरेशन मिले और वह अपनी लाइफ में कुछ कर सके. लेकिन क्या यह मोटिवेशन वाकई में आपकी लाइफ चेंज कर सकता है या नहीं. मुझसे अगर पूछोगे तो यह मोटिवेशन आपकी लाइफ चेंज नहीं कर सकता क्योंकि आप अभी तो सर्च करेंगे इंटरनेट पर मोटिवेशन के बारे में इंस्पिरेशन के बारे में लेकिन वह मोटिवेशन इंस्पिरेशन ज्यादा देर तक नहीं टिक सकता. संक्षिप्त में कहा जाए तो मोटिवेशन क्या है "मोटिवेशन टेंपरेरी होता है" कुछ पल के लिए होता है.

आप इंटरनेट पर सर्च करेंगे मोटिवेशन कोट्स इन हिंदी या कोई और भी कोई टॉपिक आप सर्च करेंगे मोटिवेशन के बारे में और हजारों रिजल्ट आपके सामने आ जाएंगे और फिर आप उनको पड़ेंगे या देखेंगे तो उस समय आपके अंदर मोटिवेशन तो आ जाएगा और आप खुद को मोटिवेट कर पाएंगे उस पल के लिए,लेकिन आप कुछ पल के बाद फिर से D-motivate हो जाओगे. यह जो मोटिवेशन है वो आपको इंटरनेट पर नहीं मिलने वाला और अगर मिलेगा भी तो वो कुछ पल के लिए आपको मोटीवेट करेगा बस और कुछ नही. अगर आप मोटिवेशन चाहते हो तो इंटरनेट पर नहीं अपने आप में ढूंढो क्योंकि सबसे बड़ी इंस्पिरेशन सबसे बड़ा मोटिवेशन आपके अंदर छुपा होता होता है. बस आपको उसको जगाना है आपको उसको ढूंढना है. उस मोटिवेशन को आपको ऊपर लेकर आना है.

आप जो भी काम कर रहे हैं या फिर जो भी काम करना चाहते हैं उस काम को करने के लिए आपको एक मोटिवेशन की जरूरत है जो आपके अंदर छुपी हुई थी ना कि आपको इंटरनेट से मिलती है. अगर इंटरनेट से permanant motivation मिलने लग जाता तो आज दुनिया में कोई भी इंसान unsucsessful नही होता हर एक इंसान अपनी अपनी लाइफ में successfull होता. जब भी आप कोई काम करना चाहते हो और उस काम को करने के लिए अगर आप मोटिवेशन चाहते हो तो सिर्फ आप उस वर्ड को पॉजिटिव में बदल कर रख दो बस वही आपका एक मोटिवेशन आपके काम को सक्सेसफुल बना देगा. जैसे हर सिक्के के दो पहलू होते हैं उसी तरह हर एक वाक्य के दो meaning निकल कर आते हैं,एक पॉजिटिव होता है तो दूसरा नेगेटिव होता है. "मैं यह कर सकता हूं?" "मैं यह कर सकता हूं"  यह दोनों वाक्य आपको  देखने मे पढ़ने में सेम लगेंगे लेकिन अगर आप गौर से इस वाक्य को देखेंगे पढ़ेंगे तो यह वाक्य नेगेटिव से पॉजिटिव में बदलते दिखेंगे. अगर आपके पास नेगेटिव वाक्य है तो उसको पॉजिटिव में बदल दीजिए अगर आपने उसको बदल दिया तो आपको किसी भी मोटिवेशन की जरूरत नहीं होगी.

आपका Mind कैसा होता है


दोस्तों जो आपका माइंड है जो आप का दिमाग है ये बहुत चंचल होता है.कभी भटक सकता है और उसको भटकने कि लिये 1 सेकंड भी नहीं लगता.अभी अगर आप सोच रहे हो किसी व्यक्ति के बारे में किसी चीज के बारे में तो ये जो आपका दिमाग है वह आपको एक प्लेटफार्म से लेकर दूसरे प्लेटफार्म तक दूसरे से लेकर तीसरे तक तीसरे से लेकर चौथे तक चौथे से लेकर पांचवे तक पांचवे से लेकर छटवे सांतवे प्लेटफार्म तक लेकर जाता है लेकिन आपको पता भी नहीं चलेगा कि आप वहां तक कैसे पहुंचे हो.मैंने अपने हर आर्टिकल में यही कहा है कि मैं कोई theoretical बात नहीं करता जो भी करता हूं प्रैक्टिकल करता हूं.जो मैं ने experience लिया है वही बात करता हूं.

आप में से बहुत से लोगों ने यह अनुभव लिया होगा कि आप अगर किसी चीज के बारे में सोच रहे हो.मान लो कि आप फेसबुक के बारे में सोच रहे हो तो आपका जो दिमाग है वह ऑटोमेटिकली उन चीजों तक चला जाता है जो आप सोच भी नहीं सकते यानी कि आप फेसबुक पर अभी सोच रहे हो तो आप ऑटोमेटेकली कुछ देर बाद किसी और चीज तक पहुंच जाते हो.जब कि आप फेसबुक के बारे में सोच रहे होते हो.यह concept अगर आपको समझ में आया तो आप अपने दिमाग को कंट्रोल कर पाएंगे और यदि आप अगर आपके दिमाग को कंट्रोल करने में सफल हो पाए तो आप लाइफ में सक्सेसफूल हो जाओगे.

सक्सेसफुल होने के लिए क्या करें


वैसे देखा जाए तो आप सभी अपनी अपनी लाइफ में बोहत सक्सेसफुल हो. बचपन से लेकर आज तक आप सब ने एक सक्सेस हासिल की है. मैं जब स्कूल में था तब में दसवीं के स्टूडेंट को देखता था और यह सोचता था कि मैं दसवीं में कब पोहचूंगा और जब मैं दसवीं तक पहुंचा उसके बाद मैंने कॉलेज स्टूडेंट को देखा और तब में यह सोचने लगा कि मैं कॉलेज कब पहुंचेगा और जब मैं कॉलेज पहुंचा तब मैं यह सोचने लगा कि मैं जॉब कब करूंगा मैं ऑफिस कब जाऊंगा मैं अपना बिजनेस कब खड़ा कर पाऊंगा. तो यहां तक का जो मेरा सफर था और मैंने जो जो सोचा था कि वो सब मैंने हासिल किया. स्कूल में था उसके बाद दसवीं कक्षा में गया फिर उसके बाद कॉलेज पहुंचा. तो यह सब क्या है?,ये सब एक सक्सेस का पार्ट है. मैंने जो जो सोचा जो जो चाहा उन सब में सक्सेस हासिल की. लेकिन अगर आप यहां एक बात नोटिस करेंगे,जिस तरह से मुझे यहां तक पहुंचने के लिए स्कूल और कॉलेज में इम्तिहान देने पड़े थे उसी तरह जिंदगी भी आप का इम्तिहान लेती है और इस इम्तिहान में आपको पास होकर गुजरना पड़ता है.

यू कहे है तो आपको जो भी प्रॉब्लम आती है जो भी परेशानीया आती है उन प्रॉब्लम्स से आप डरने की वजह उसका मुकाबला करके आगे बढिये. उसके बाद आप जो सोचोगे आप वही बनोगे जो चाहोगे आप वही पाओगे और एक ना एक दिन आप जरुर successfull बन जाओगे. आप चाहे जो भी करो,जॉब करो बिजनेस करो या कोई खेल खेलो जो भी करो आपको उन सब में आपका हंड्रेड परसेंट देना होगा. आपको उस काम को करने के लिए पूरा का पूरा पागल होना पड़ेगा.उस काम को अपना पैशन बनाओ उस काम को इतने अच्छे तरीके से करो की वो काम आपको काम नहीं खेल लगे. जिंदगी भी एक खेल ही है वह आपको हर वक्त एक नया मौका जरूर देती है बस आप को उस मौके पर चौका मारना होता है. आप उस मौके का फायदा उठाओ अगर आप से वह मौका छूट जाए तो ना तो उदास होना है और ना ही परेशान होना है. आपको बस थोड़ा सब्र करना है क्योंकि यह जिंदगी मेरे भाई ये आप को दूसरा मौका जरूर देगी बस आपको पीच पर डटे रहना है और जब भी मौका मिले बस आगे बढ़ कर चौका लगा देना है.

इसी आर्टिकल के साथ में अमित बालघरे आपसे विदा लेता हूं फिर मिलेंगे एक नए विषय के साथ एक नए जज्बे के साथ.और अभी तक आपने हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब नहीं किया है तो प्लीज सब्सक्राइब जरूर कर ले ताकि हमारे आने वाले हर एक आर्टिकल के बारे में आपको सबसे पहले खबर मिलती रहे.सब्सक्राइब करने के लिए आपको ज्यादा कुछ नहीं करना है आपको सिर्फ अपना ईमेल एड्रेस टाइप करके सब्सक्राइब बटन पर क्लिक कर देना है या फिर अपने पास वाली घंटी को प्रेस करना है और हमें सब्सक्राइब करना है.तो चलिए फिर मिलेंगे तब तक के लिए हंसते रहिए मुस्कुराते रहिए खिल खिलाते रहिए और बने रहिए हमारे साथ mygapshup.com पर.
जय हिंद.



0 comments: